लखीमपुर खीरी हिंसा:केंद्रीय मंत्री का बेटा आशीष जेल भेजा गया, 11 अक्टूबर को होगी कोर्ट में सुनवाई; हत्या, लापरवाही से गाड़ी चलाने और आपराधिक साजिश का केस

डीआईजी उपेंद्र कुमार ने बताया कि आशीष मिश्रा जांच में सहयोग नहीं कर रहा। कुछ सवालों के जवाब भी नहीं दे सके। इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया है। अब कोर्ट में पेश किया जाएगा।

लखीमपुर हिंसा के मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र के बेटे आशीष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। अब 11 अक्टूबर को कोर्ट में सुनवाई होगी। इससे पहले करीब 12 घंटे तक उससे पूछताछ हुई। आशीष पर मर्डर, एक्सीडेंट में मौत, आपराधिक साजिश और लापरवाही से वाहन चलाने की धाराओं में केस दर्ज किया गया है। मजिस्ट्रेट के सामने कलमबंद उसके बयान दर्ज किए गए हैं। आशीष का क्राइम ब्रांच में ही मेडिकल टेस्ट हुआ।

डीआईजी उपेंद्र कुमार ने बताया कि आशीष मिश्रा जांच में सहयोग नहीं कर रहा। कुछ सवालों के जवाब भी नहीं दे सके। इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया है। अब कोर्ट में पेश किया जाएगा।

आशीष मिश्र को लखीमपुर जेल कड़ी सुरक्षा में ले जाया गया है।

आशीष मिश्र को लखीमपुर जेल कड़ी सुरक्षा में ले जाया गया है।

वहीं, आशीष को क्राइम ब्रांच में VIP ट्रीटमेंट मिला। उसे मेडिकल परीक्षण के लिए लखीमपुर जिला अस्पताल ले जाया गया। इसके लिए इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. अखिलेश कुमार क्राइम ब्रांच में पहुंचे और मेडिकल टेस्ट किया गया। इससे पहले आशीष घटना के सातवें दिन शनिवार को क्राइम ब्रांच के सामने सुबह 10:36 पर पेश हुआ। इस दौरान उसने रुमाल से अपना मुंह छिपा रखा था। और पिछले दरवाजे से इंट्री की थी।

12 घंटे की पूछताछ में 14 बार भेजा गया चाय-नाश्ता
क्राइम ब्रांच में पूछताछ के दौरान 14 बार चाय और नाश्ता अंदर गया। आशीष मिश्रा के साथ उनके वकील अवधेश सिंह और मंत्री अजय मिश्र टेनी के प्रतिनिधि अरविंद सिंह संजय और भाजपा के सदर विधायक योगेश वर्मा भी अंदर मौजूद रहे। क्राइम ब्रांच के दफ्तर में SDM सदर भी मौजूद रहे।

पूछताछ में 10 एफिडेविट और एक पेन ड्राइव के साथ दो मोबाइल पेश किए गए। इनसे SIT संतुष्ट नहीं दिखी। बताया जा रहा है कि 13 वीडियो SIT को दिए गए हैं। इनकी जांच फॉरेंसिक एक्सपर्ट करेंगे।

लखीमपुर के क्राइम ब्रांच ऑफिस में बड़ी संख्या में पुलिसवालों को तैनात किया गया है।

लखीमपुर के क्राइम ब्रांच ऑफिस में बड़ी संख्या में पुलिसवालों को तैनात किया गया है।

आशीष ने दंगल में होने के वीडियो पेश किए
आशीष से 6 लोगों की टीम ने पूछताछ की। लखीमपुर में क्राइम ब्रांच के दफ्तर में आशीष मिश्रा से मजिस्ट्रेट के सामने सवाल-जवाब किए गए। आशीष अपने वकील के साथ मौजूद रहा। पूछताछ में डीआईजी उपेंद्र अग्रवाल और लखीमपुर के एसडीएम भी शामिल रहे।

आशीष मिश्रा ने अपने पक्ष में कई वीडियो पेश किए। उन्होंने 10 लोगों के बयान का हलफनामा भी पेश किया, जो बताते हैं कि वो काफिले के साथ नहीं था, दंगल मैदान में था।

Leave a Reply