Madhya Pradesh: बैकफुट पर मंत्री के गृह जिले का आबकारी महकमा, आदेश निरस्त

मंदसौर कलेक्टर गौतम सिंह का कहना था कि शराब ठेकेदार द्वारा तीन दुकानों पर वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र दिखाने पर छूट की घोषणा की गई है।

आबकारी

https://googleads.g.doubleclick.net/pagead/ads?client=ca-pub-1795429736062475&output=html&h=300&slotname=8143523523&adk=1922470369&adf=2668027821&pi=t.ma~as.8143523523&w=360&lmt=1637815400&rafmt=1&psa=1&format=360×300&url=https%3A%2F%2Fmpbreakingnews.in%2Fmadhya-pradesh%2Fmandsaur%2Fmadhya-pradesh-excise-department-of-ministers-home-district-on-backfoot-order-canceled-mpk%2F&flash=0&fwr=1&fwrattr=true&rpe=1&resp_fmts=3&sfro=1&wgl=1&dt=1637815571209&bpp=23&bdt=2722&idt=179&shv=r20211111&mjsv=m202111110101&ptt=9&saldr=aa&abxe=1&cookie=ID%3D1b7c7907deaf6186-22bac0a812cb0064%3AT%3D1629538652%3ART%3D1629538652%3AS%3DALNI_MaxP9eMMwIt3EQasQv9axP79SRFjA&prev_fmts=0x0&nras=1&correlator=3283339520081&frm=20&pv=1&ga_vid=452955043.1629538653&ga_sid=1637815571&ga_hid=1332121604&ga_fc=1&u_tz=330&u_his=1&u_h=800&u_w=360&u_ah=800&u_aw=360&u_cd=24&dmc=4&adx=0&ady=758&biw=360&bih=664&scr_x=0&scr_y=553&eid=31063792%2C31060032&oid=2&pvsid=1154994261400652&pem=973&tmod=998635361&eae=0&fc=1920&brdim=0%2C0%2C0%2C0%2C360%2C0%2C360%2C664%2C360%2C664&vis=1&rsz=%7C%7CeE%7C&abl=CS&pfx=0&fu=128&bc=31&ifi=2&uci=a!2&fsb=1&xpc=75bzhRUsx6&p=https%3A//mpbreakingnews.in&dtd=208

मंदसौर, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले के आबकारी अधिकारी (Mandsaur Excise Officer) का आदेश विवादों में आने के बाद  निरस्त कर दिया गया है। इस आदेश में मंदसौर आबकारी विभाग ने वैक्सीन के दोनों डोज लगवाने वालों को  शराब पर 10 फीसदी डिस्काउंट देने का ऑफर दिया था, जिसके बाद मंदसौर से लेकर भोपाल तक हड़कंप मच गया था। BJP विधायक ने आपत्ति जताई थी। इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर भी यूजर्स के तरह तरह के कमेन्ट्स सामने आए थे।हैरानी की बात तो ये है कि यह शिवराज कैबिनेट (Shivraj Cabinet Minister) में आबकारी मंत्री जगदीश देवड़ा का गृह जिला है, हालांकि विवाद बढ़ने के बाद मंत्री जी का आबकारी महकमा बैकफूट पर आ गया।

दरअसल, मंगलवार को मंदसौर जिला आबकारी अधिकारी के आदेश में लिखा था कि लाइसेंसी द्वारा कोविड-19 के दोनों डोज लगवाने का प्रमाण पत्र लाने वाले उपभोक्ता को मदिरा खरीदने पर 10% डिस्काउंट (10 percent discount on liquor) दिया जाएगा।” डिस्काउंट मिलने में कोताही ना हो, इसके लिए बाकायदा तीन अधिकारियों की ड्यूटी भी दुकानों पर लगा दी गई है।इतना ही नहीं साहब ने आदेश में संदर्भ दिया है कि ऐसा मंदसौर कलेक्टर गौतम सिंह के निर्देश पर किया जा रहा है।इस आदेश के वायरल होते ही हड़कंप मच गया और आज बुधवार को इस आदेश को निरस्त कर दिया गया है, हालांकि इस संबंंध में नया आदेश जारी नहीं किया गया है। देर शाम इस संबंध में नया आदेश जारी हो सकता है।

वही विवाद बढ़ने पर मंदसौर कलेक्टर गौतम सिंह (Mandsaur Collector Gautam Singh) का कहना था कि शराब ठेकेदार द्वारा तीन दुकानों पर वैक्सीनेशन का प्रमाण पत्र दिखाने पर छूट की घोषणा की गई है। यह छूट ठेकेदार द्वारा निजी रूप से दी जा रही है। जिला प्रशासन या सरकार (MP Government) की ओर से किसी प्रकार की कोई छूट नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि अगर शराब ठेकेदार वैक्सीनेशन बढ़ाने के लिए किसी प्रकार की छूट का ऐलान करता है तो जिला प्रशासन को कोई आपत्ति नहीं है।

भाजपा विधायक ने भी जताई थी आपत्ति

मंदसौर से भाजपा विधायक यशपाल सिसौदिया (MandSaur BJP MLA Yashpal Sisodia) ने ट्वीट कर लिखा था कि जिला आबकारी अधिकारी ने प्रेस नोट जारी कर शराब पीने वालों को वैक्सीनेशन के दुसरे डोज लगाने पर ठेकेदार द्वारा मंदसौर की तीन दुकानों पर 10% भाव में छुट देने की बात कही है, यह नवाचार है जो उचित नहीं है और ना ही यह शासन का निर्णय है इससे पीने वालों का आकर्षण बढ़ेगा।

Leave a Reply