कोरोना की तीसरी लहर का अंदेशा, मुख्यमंत्री व उनके जनप्रतिनिधि नहीं है चिंतित- ओम दीवान

भाजपा सरकार व उसके जनप्रतिनिधियों की अनदेखी से जिला चिकित्सालय भगवान भरोसे – ओम दीवान

नीमच । कोरोना की पिछली लहर से पूरी तरह उबरे नहीं की अब तीसरी लहर का अंदेशा भयभीत कर रहा है, तीसरी लहर की आशंका बनने लगी है। वहीं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के जारी बयान से लगता है कि वे तीसरी लहर को लेकर चिंतित नजर नहीं आ रहे हैं, जबकि सुरक्षा के बतौर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को आमजन के हित में सुरक्षात्मक कड़े कदम उठाकर आवश्यक निर्णय ले लेना चाहिए थे।
उक्त विचार व्यक्त करते हुए जिला कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष ओम दीवान ने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सिर्फ स्कूलों में 50% उपस्थिति व ऑनलाईन क्लास जारी रखने आदि को लेकर औपचारिकता पूर्ण के साथ ही कुछ ऐसे निर्णय लिए है जो सुरक्षात्मक तौर पर काफी नहीं है मात्र औपचारिकता पूर्ण की है। जबकि वास्तविकता में धार्मिक, राजनीति एवं मांगलिक कार्यक्रमों में उमड़ रही भीड़ पर काबू पाना आवश्यक हो गया है, वही अन्य प्रदेशों से मध्यप्रदेश में आ रहे यात्रियों को लेकर भी विशेष कदम उठाना जरूरी हो गया है । लेकिन जिस प्रकार से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बयान दे रहे हैं उससे तो ऐसा नहीं लगता है कि वह कोरोना की तीसरी लहर को लेकर गंभीर नजर आ रहे हैं। वहीं नीमच जिले के भाजपा के जनप्रतिनिधियों की बात करें खासकर नीमच जिला मुख्यालय पर स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर हालत अभी भी बदतर नजर आ रहे हैं। जिला स्वास्थ्य विभाग लापरवाही को लेकर हमेशा से विवादों में रहा है । पिछली कोरोना लहर में हमने दिल दहला देने वाले, दिल को जकजोरने वाले हालत देखे हैं उसको सोच कर ही दिल घबरा जाता है उसके बाद भी आज तक भाजपा के जनप्रतिनिधियों ने नीमच जिला मुख्यालय के स्वास्थ्य सुविधाओं को नहीं सुधारा है। वर्तमान में जिला चिकित्सालय में चिकित्सकों का अभाव बना हुआ है। नीमच में जिला चिकित्सालय में स्थित ऑक्सीजन में अभी भी सिलेंडरों से सप्लाई हो रही है अभी तक प्लांट को अपडेट नहीं किया गया है। वहीं जावद की बात करें तो जावद में ऑक्सीजन प्लांट बंद पड़ा हुआ है। भाजपा सरकार की कोरोना से लड़ने के लिए, आमजन को सुरक्षा प्रदान करने के लिए आमजन को उचित इलाज मुहैया करवाने के लिए ऐसी कोई सी भी तैयारी पूरी नहीं है कि हम कोरोना से आसानी से निपट सकें। नीमच जिला मुख्यालय स्वास्थ्य सेवाओं के नाम पर बदतर स्थिति में पहुंच चुका है कोई भी जनप्रतिनिधि नीमच जिले में पर्याप्त चिकित्सकों की व्यवस्था नहीं करवा पाए हैं, उनकी लापरवाही कहें या कमजोरी जिसके कारण नीमच जिला चिकित्सालय सुविधाओ के नाम पर मात्र थोथा चना बाजे घना की तर्ज पर दिखावे का अस्पताल बना हुआ है, हालत यह हो रहे हैं कि जिला चिकित्सालय में जो भी चिकित्सक है वह भी चिकित्सकों का अभाव बताकर अपनी ड्यूटी से भागते नजर आते हैं। जबकि तीसरी लहर का अंदेशा हो चुका है ऐसे हालातो से हम कैसे जंग जीत पाएंगे। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री व भाजपा के जनप्रतिनिधि कोरोना की तीसरी लहर को लेकर गंभीर नहीं है । निरंतर बढ़ रही महंगाई व जनविरोधी नीतियों के कारण भाजपा सरकार से आम जन का विश्वास उठ चुका है और आने वाले चुनाव में अपनी हार को देखते हुए वे अपनी जिम्मेदारी से भागते नजर आ रहे है ।
जिला कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष ओम दीवान ने कहा कि ईश्वर की कृपा से वर्तमान में सभी ठीक है और ईश्वर से यही प्रार्थना करते है कि सभी ठीक ही रहे और कॉरोना से सभी बचे रहे।
ईश्वर ना करें लेकिन कभी कोरोना की तीसरी लहर की चपेट में यदि नीमच जिला आता है तो हम उससे कैसे निपट पाएंगे यह बड़ा चिंतनीय और विचारनीय है । कोरोना की दूसरी लहर के बाद नीमच जिले की स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर बनाने हेतु हमारे पास बहुत समय मिला था। यदि भाजपा के जनप्रतिनिधि चाहते तो नीमच जिला मुख्यालय की स्वास्थ्य सुविधाओं को सर्व सुविधा युक्त और बेहतर बना सकते थे लेकिन भाजपा के जनप्रतिनिधियों ने कोई ध्यान नहीं दिया।
श्री दीवान ने कहा कि मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार को व उनके जनप्रतिनिधि को चाहिए कि कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए आमजन के हित में जिला मुख्यालय की स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के साथ ही शीघ्र ही चिकित्सकों की कमी को दूर करें वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री को चाहिए कि आमजन के हित में सुरक्षात्मक तौर पर कम से कम आगामी 15 से 20 दिनों के लिए कठोर कदम उठाए जाएं ताकि भविष्य में कोई भी अप्रिय स्थिति ना बन सके।

Leave a Reply