नीमच में तेंदुए का आतंक:देर रात दो तेंदुओं ने गाय पर किया हमला, चार दिन में तीन मवेशियों को बनाया शिकार, दहशत में ग्रामीण

नीमच,बुधवार रात को एक बार फिर दो तेंदुओं ने हमला कर दिया। तेंदुओं ने एक गाय को घायल कर दिया है। गाय के चिल्लाने के बाद इक्कठा हुए ग्रामीणों ने मशाल और लाठी डंडों के साथ दौड़ते हुए तेंदुओं का पीछा किया, लेकिन वह खेतों में फसलों के बीच छिपते हुए जंगल की ओर भाग गए। अनेड निवासी ग्रामीण नवरतन धाकड़ ने बताया कि बुधवार रात गांव के दो युवक बाइक पर सवार होकर गांव की ओर जा रहे थे। तब गांव में एक बाड़े में बंधी गाय पर हमला करते हुए दो तेंदुओं को देखा और चिल्लाने लगे। चिल्लाने की आवाज सुनकर ग्रामीण अग्नि मशाल और लाठी डंडों के साथ दौड़ते हुए आए। ग्रामीणों ने देखा कि एक तेंदुए ने गाय की गर्दन पकड़ी थी, जबकि दूसरे ने पीछे से गाय को दबोच रखा था। जैसे ही वे लोग शोर मचाते हुए वहां पहुंचे। दोनों तेंदुए जंगल की ओर भाग गए। लगातार मवेशियों पर हमला कर रहे तेंदुए चार दिनों में तेंदुओं ने तीन मवेशियों को शिकार बनाया है। ऐसे में ग्रामीणों में दहशत बढ़ गई है। इससे पूर्व गत शनिवार-रविवार की रात एक गाय और सोमवार-मंगलवार की रात एक बछड़े को शिकार बनाया गया था। बाद में वनकर्मियों ने पद चिन्हों के आधार पर बताया था कि मवेशी तेंदुए का शिकार हुए हैं। जबकि बुधवार रात एक बार फिर एक साथ दो तेंदुओं ने गाय को शिकार बनाया है। वनकर्मियों की माने तो जंगलों में मानवीय दबाव के कारण जंगली जानवर दिन में अपना शिकार नहीं कर पाते है। ऐसे में भूख से तड़पते जानवर शिकार की तलाश में गांव के पास तक पहुंच रहे है। हालांकि वनकर्मियों का सामूहिक गश्ती दल रात्रि में मशाल जलाकर तेंदुए को रहवासी क्षेत्र में आने से रोकने की बात कहीं है।

Leave a Reply