MP में बत्ती गुल दुल्हन एक्सचेंज! बिजली गुल होते ही फेरे के वक्त बदल गई दो भाइयों की दुल्हनें, जानें फिर क्या हुआ ?

उज्जैन। मध्यप्रदेश में बिजली संकट चल रहा है. किसी भी वक्त बिजली गुल हो जा रही है. बत्ती गुल होने से अब दुल्हन भी बदल रही हैं. शादी विवाह के सीज़न में अगर बिजली गुल हो जाए, तो परेशानियां चाहे वर पक्ष हो या वधु पक्ष दोनों को ही झेलना पड़ जाती है, लेकिन जिले के ग्रामीण क्षेत्र असलाना में जो परेशानी दोनों पक्षों के सामने खड़ी हुई, उसको जान कर आप भी दंग रह जाएंगे.

दरअसल एक ही परिवार की तीन बेटियों को लेने आए दूल्हों की दुल्हनें बत्ती गुल होने से अचानक बदल गई, वो तो गनीमत रही वक़्त रहते बिजली आ गई वरना दुल्हन किसी और दूल्हे की हो जाती. ये बात ख़ुद बारात लेकर आए लड़के के पिता, लड़की का भाई और गांव के पटेल ने कही. तीनों की बात सुनकर हर कोई हैरान है कि ऐसा कैसे हो सकता है.nullnull

हालांकि इसका जवाब भी हमने लिया तो पता चला बेटियों ने एक जैसी ड्रेस पहन रखी थी. गांव में घूंघट प्रथा है. तो कोई समझ ही नहीं पाया और पूजन के लिए बेटियों को इधर का उधर बैठा दियाय जैसे ही लाइट आई तो हर कोई इस दृश्य को देख दंग रह गया और बात अफवाह की तरह फैल गई कि दूल्हा दुल्हन बदल गए. लेकिन सच यही है कि दूल्हा दुल्हन सिर्फ पूजन के वक़्त बदले फेरे के वक़्त लाइट आ गई और बेटियों को उन्ही के दूल्हे के साथ खुशी खुशी विदा किया गया.

ये अनोखा कारनामा उज्जैन जिले के ग्रामीण क्षेत्र असलाना ग्राम पंचायत का है, जहां रहने वाले रमेश लाल की तीन बेटियां कोमल, निकिता, करिश्मा और बेटे गोविंद की शादी थी. कोमल को ग्राम खीरा खेड़ी के देवीलाल मेवाड़ा के पुत्र राहुल के साथ बिहाया गया. निकिता को ग्राम दंगवाड़ा के रामेश्वर के पुत्र भोला से और करिश्मा को ग्राम दंगवाड़ा के बाबूलाल के पुत्र गणेश से 5 मई 2022 गुरुवार की रात को बिहाया गया. लेकिन जब तीनों बेटियों की बारात असलाना गांव पहुँची, तो वहां तीनों बेटियों ने परंपरा अनुसार घूंघट निकाल रखा था.null

एक जैसी तीनों तैयार हुई. जब पूजन प्रकिया शुरू हुई, तो बत्ती गुल हो गई और तीनों में से दो बेटियां पूजन के वक़्त इधर की उधर बैठ गई. पूजन संपन्न होते ही लाइट आई और परिवार में पता चला कि गड़बड़ हो गई. बात सब जगह फैल गई की दुल्हन बदल गई. उस वक्त तक दुल्हन और दूल्हे के फेरे नहीं हुए थे. विवाह करवा रहे पंडित को जब पता चला तो उन्होंने फिर विधि विधान के साथ तीनों बेटियों को अपने अपने दूल्हे के साथ फेरी दिलवाए. परिवारजनों ने राजी खुशी अपनी तीनों बेटियों को सही दूल्हे के साथ विदा किया.

दुल्हन के भाई शैलेन्द्र, दूल्हे के पिता और ग्रामीण लाखन पटेल ने बताया कि ये अफवाह है कि दुल्हन की शादी किसी और दूल्हे के साथ हो गई. सच्चाई ये है कि दुल्हन बदली जरूर, लेकिन सिर्फ पूजन पाठ में एक जैसी तैयार होना, एक जैसे ड्रेस पहनना और घूंघट रखना फिर लाइट चले जाना. फिर फेरे और विदाई सही दूल्हे के साथ हुए. कोई परिवार में झगड़ा किसी बात को लेकर नहीं हुआ है. राजीखुशी हुआ और अब सब सामान्य है.

Leave a Reply