भारत में ऑटोमोबाइल तथा ऑटो कंपोनेंट के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन स्कीम के तहत कुल 115 कंपनियों ने अपने आवेदन प्रस्तुत किए

भारत में ऑटोमोबाइल तथा ऑटो कंपोनेंट के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन स्कीम, जिसे 23 सितंबर, 2021 को अधिसूचित किया गया, के तहत कुल 115 कंपनियों ने अपने आवेदन प्रस्तुत किए हैं। यह स्कीम 9 जनवरी, 2022 को भारतीय मानक समय (आईएसटी) के अनुसार 23 : 59 : 59 बजे तक आवेदन प्राप्त करने के लिए खुली थी। ये प्रोत्साहन 1 अप्रैल, 2022 के बाद से पांच लगातार वर्षों की अवधि के लिए भारत में विनिर्मित्त एडवांस्ड ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी (एएटी) उत्पादों (वाहन तथा कंपोनेंट) की निर्धारित बिक्री के लिए स्कीम के तहत लागू हैं।

सरकार ने 25,938 करोड़ रुपये के बजटीय परिव्यय के साथ उन्नत ऑटोमोटिव उत्पादों के लिए भारत की विनिर्माण क्षमता को बढ़ाने के लिए भारत में ऑटोमोबाइल तथा ऑटो कंपोनेंट के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन स्कीम (पीएलआई) को मंजूरी दी है। ऑटोमोबाइल तथा ऑटो कंपोनेंट के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन स्कीम (पीएलआई) में एडवांस्ड ऑटोमोटिव टेक्नोलॉजी उत्पादों के घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने तथा ऑटोमोटिव विनिर्माण मूल्य श्रृंखला में निवेश आकर्षित करने के लिए वित्तीय प्रोत्साहन प्रदान करने का प्रस्ताव रखा गया है। इसके प्रमुख उद्येश्यों में लागत अक्षमताओं से उबरना, परिमाण योग्य अर्थात कम लागत में अधिक उत्पादन की अर्थव्यवस्थाओं का सृजन करना और उन्नत ऑटोमोटिव प्रौद्योगिकी उत्पादों के क्षेत्रों में एक मजबूत आपूर्ति श्रृंखला का निर्माण करना शामिल है। यह योजना रोजगार के सृजन में भी सहायता करेगी। यह स्कीम ऑटोमोबाइल उद्योग को मूल्य श्रृंखला से उच्चतर मूल्य वर्धित उत्पादों की ओर अग्रसर होने में सुविधा प्रदान करेगी।

प्राप्त आवेदनों का वर्ग-वार वितरण निम्नलिखित है:

क्रम संख्या प्राथमिक वर्ग आवेदनों की संख्या
1 चैंपियन आईएम  (2 डब्ल्यू तथा 3 डब्ल्यू छोड़कर)

 

13
2 चैंपियन आईएम  (2 डब्ल्यू तथा 3 डब्ल्यू)

 

7
3 नई गैर-ऑटोमोटिव निवेशक (ओईएम) कंपनी

 

9
4 कंपोनेंट चैंपियन

 

83
5 नई गैर-ऑटोमोटिव निवेशक (कंपोनेंट) कंपनी

 

3
  कुल

 

115

 

ऑटो सेक्टर के लिए पीएलआई स्कीम उच्च मूल्य के उन्नत ऑटोमोटिव प्रौद्योगिकी वाहनों तथा उत्पादों को प्रोत्साहित करेगी। यह उच्चतर प्रौद्योगिकी, अधिक प्रभावी तथा हरित ऑटोमोटिव विनिर्माण में एक नए युग का सूत्रपात करेगी। ऑटो सेक्टर के लिए पीएलआई स्कीम में भारत में उन्नत ऑटोमोटिव प्रौद्योगिकी उत्पादों के विनिर्माण के लिए उद्योग को लागत संबंधी अक्षमताओं से उबरने की परिकल्पना की गई है। यह प्रोत्साहन संरचना स्वदेशी आपूर्ति  श्रृंखला /उन्नत ऑटोमोटिव प्रोद्यौगिकी उत्पादों के सघन स्थानीयकरण में नए निवेश करने के लिए उद्योग को प्रोत्साहित करेगी।

ऑटो सेक्टर के लिए पीएलआई स्कीम विद्यमान ऑटोमोटिव कंपनियों तथा नए निवेशकों के लिए खुली थी जो वर्तमान में ऑटोमोबाइल या ऑटो कंपोनेंट विनिर्माण व्यवसाय में नहीं हैं। इस स्कीम के दो घटक अर्थात चैंपियन आईएम प्रोत्साहन स्कीम तथा कंपोनेंट चैंपियन प्रोत्साहन स्कीम हैं। चैंपियन आईएम प्रोत्साहन स्कीम एक ‘विक्रय मूल्य से संबंधित‘ स्कीम है जो बैटरी इलेक्ट्रिक वाहनों तथा सभी वर्गों के हाइड्रोजन फ्यूल सेल चाहनों पर लागू होती है। कंपोनेंट चैंपियन प्रोत्साहन स्कीम एक ‘विक्रय मूल्य से संबंधित‘ स्कीम है जो वाहनों के उन्नत ऑटोमोटिव प्रोद्यौगिकी उत्पादों, कंप्लीटली नौक्ड आउट (सीकेडी)/ सेमी नौक्ड आउट (एसकेडी) किट्स, दुपहियों, तिपहियों, यात्री वाहनों, वाणिज्यिक वाहनों तथा ट्रैक्टरों  के वाहन समूहों पर लागू होती है।

एडवांस्ड कैमिस्ट्री सेल (एसीसी) (18,100 करोड़ रुपये) तथा इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण के त्वरित अंगीकरण (एफएएमई) (10,000 करोड़ रुपये) के लिए पहले ही लांच की जा चुकी पीएलआई स्कीम के साथ साथ ऑटोमोटिव सेक्टर के लिए यह पीएलआई स्कीम (25,938 करोड़ रुपये) भारत को पारंपरिक जीवाश्म आधारित ऑटोमोबाइल परिवहन प्रणाली की तुलना में तेजी से पर्यावरण की दृष्टि से अधिक स्वच्छ, टिकाऊ, उन्नत तथा अधिक सक्षम इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) आधारित प्रणाली की ओर अग्रसर करने में सक्षम बनाएगा।

ऑटोमोबाइल तथा ऑटो कंपोनेंट के लिए उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन स्कीम (पीएलआई) स्थानीय के साथ साथ वैश्विक स्तर पर मुख्यालय वाले समूहों, जो उन्नत ऑटोमोटिव प्रौद्योगिकी वाहनों/उत्पादों के विनिर्माण से जुड़े हैं या प्रस्तावित हैं, से भी प्राप्त आवेदनों की दृष्टि से अत्यधिक सफल रही है।

उद्योग ने एक विश्व स्तरीय विनिर्माण गंतव्य के रूप में भारत की शानदार प्रगति में फिर से अपना विश्वास जताया है जो माननीय प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत के आह्वान के साथ दृढ़ता से प्रतिध्वनित होता है।

Leave a Reply