कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए युवा कम्यूनिकेटर आशी चौहान ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर लोगो को कर रही जागरूक

DG NEWS BHOPAL

संवाददाता सुरेश मालवीय

भोपाल । एक तरफ प्रदेश सरकार तीसरी लहर को देखते तैयारी करने में अभी से जुट गई है। तो वहीं दूसरी तरफ शहर के कुछ ऐसे युवा भी हैं जो कि गरीब बस्तियों और ग्रामीण क्षेत्रों में जाकर लोगों को तीसरी लहर को लेकर जागरुक कर रहें हैं। इसी कड़ी में शहर की युवा कम्यूनिकेटर आशी चौहान ने बच्चों को कोरोना के लिए भी जागरुक कर रहीं है। युवा कम्यूनिकेटर आशी चौहान ने बताया कि, कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सभी लोग आशंकित है। माना जा रहा है कि, तीसर लहर में बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। ऐसे में हमने कोरोना को लेकर बच्चों को जागरुक करने का बीढ़ा उठाया है। हमने बच्चों को खेल खेल में कोरोना संक्रमण से बचने के तरीके बताया। और मास्क लगना क्यों जरुरी है इसके लिए हमने घर पर ही मॉडल बनाकर बच्चों को समझाया कि, यदि मास्कनही लगते तो कोराना संक्रमण कितनी तेजी से इंसान के फैफड़ों को अपनी चपेट में ले लेता है। कोरोना वायरस को आसान और सरल भाषा में और वर्किंग मॉडल से समझाया । कोरोना वायरस का संक्रमण दुनिया भर में फैलने की वजह से बहुत से लोग इस बीमारी के ख़तरों को लेकर चिंतित हैं।

खास तरीकों से बच्चों को रखे महफूज: आशी चौहान ने बताया कि, भारत में कोरोना वायरस की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है। अब कहा जा रहा है कि भारत में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर आई तो यह बच्चों के लिए खतरनाक होगी। ऐसे खतरे को देखते हुए बेहद जरूरी है कि हम वयस्कों के साथ ही बच्चों की सुरक्षा पर भी विशेष ध्यान दें। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कुछ तरीके बताए हैं, जिन्हें अपनाकर बच्चों को कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखा जा सकता है।

बच्चो ने बनाया चित्र
चित्रकला का भी आयोजन किया गया जिसमें बच्चो ने इस पाठशाला में जो समझा वही चित्र बना के बताया ।
इन बच्चो ने चित्रकला की हनी, राधा , दिशा , लवी, नीरज, प्रियांश , प्रनव,।

ये तरीके अपनाकर बच्चों को मजबूती दें
1- फेफड़े मजबूत बनाने के लिए बच्चों को गुब्बारे फुलाने के लिए दें।
2- बच्चों को पीने के लिए गुनगुना पानी दें, इससे संक्रमण का खतरा कम होगा।
3- अगर बच्चा थोड़ा बड़ा है तो उसे सांस वाली एक्सरसाइज कराएं।
4- बच्चों की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खट्टे फल खाने के लिए दें।
5- बच्चों को बैक्टीरियल इंफेक्शन और वायरल इंफेक्शन से बचाने के लिए हल्दी वाला दूध दें।
6- बच्चों को इस बीमारी के बारे में और सावधानी के बारे में समझाएं, डराएं नहीं।

One comment

  1. Pingback: Anonymous

Leave a Reply