कोरोना के नाम पर दोहरी सोंच कियो

कोरोना के नाम पर दोहरी सोंच कियो
जब देश बहुत बड़ी कोरोना आपदा से दो चार होरहा है
ऐसे में अलग अलग सोंच कियो
पिछले साल मरकज में 20हजार से कोरोना फेल रहा था
आज 50 लाख जनता हरिद्वार कुम्भ मेले में एक साथ है देश के हर कोने से लोग वह जमा होरहे है कोई भी टीवी चैनल पर खबर नही आ रही है इसी बात से पता चलता है टीवी चैनल किस हद तक गुलाम है
मस्जिद50 लोग तरावी पड़ने से खतरा बढ़ता है
हरिद्वार में 23 लाख भक्त एक साथ पूजा करे तो कुछ नही होता
अगर इज्तिमा शादी कारोबार सब से बीमारी फैलती है
तो फिर कुम्भ मेले में इतनी तादाद में लोग जमा है तो कोरोना माह विनाशकारी रूप नही लेगा इस बात से इनकार नही किया जा सकता है
कुम्भ खत्म होने के बाद जब लोग घर लौटेंगे तो देश के हर कोने में हर मोहल्ले में एक पेसेसेन्ट कोरोना पहुंच जाए इस बात से इनकार नही किया जा सकता
इस बीमारी से लड़ने के लिए राजनीति छोड़ना पड़ेगी बीजेपी सरकार से कही साधु संत नराज न होजाये इस लिए कुम्भ मेले की इजाज़त दी वोट बैंक के लिए पूरे देश को मौत के मुह में ले जाकर खड़ा करदेना कोन सी अकल मंदी है
न्यूज़ रिपोर्टर
आज़म लाला