ठेका श्रमिको को नियमों एवं कंपनी की आर्थिक स्तिथि का हवाला देते हुए कार्य से बैठा दिया गया….


भोपाल भेल लेडीज़ एजुकेशनल वैलफेयर विंग में कार्यरत श्रमिकों द्वारा बताया गया है कि लगभग 200 ठेका श्रमिक 15-20 सालों से भेल कारखाने में कार्यरत हैं।

ठेका श्रमिक अपनी समस्या को लेकर संस्था की अध्यक्ष एवं सचिव से मिले। ईडी मैडम एवं सचिव द्वारा कहा गया अभी कम्पनी की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है।

कारपोरेट प्रबंधन से फंड आने पर ही वापस पर कार्य पर लिया जायेगा।
इस मामले पर श्रमिकों का आरोप है कि एचआर विभाग के प्रतिनिधि द्वारा महिला ठेका श्रमिक के साथ अभद्रता के साथ बात करते हुए कहा गया कि कंपनी को आप लोगो की कोई जरूरत नहीं है।
आप लोग कही पर भी कार्य करने को जा सकते हैं। बताया गया कि कुछ दिन पूर्व ठेका श्रमिकों द्वारा अपनी समस्या को लेकर गोविन्दपूरा विधायक श्रीमती कृष्णा गौर को अवगत कराया था। कार्य पर नहीं लिए जाने से इन ठेका श्रमिकों को ईएसआई से मिलने वाली मेडिकल सुविधा बंद हो गई है।

उपरोक्त घटनाक्रम को देखते हुए इंटक यूनियन के उपाध्यक्ष गौतम मोरे एवं कोषाध्यक्ष राजेश शुक्ला पहुंचे उनके द्वारा ठेका श्रमिकों को आश्वाशन दिया गया कि आपके विषय में प्रबंधन से बातचीत की जाएगी और 15 अगस्त तक आपको कार्य पर वापस ले लिया जायेगा।

संवाददाता प्रमोद चौरसिया

Leave a Reply