संयुक्त ट्रेड यूनियन के आह्वान पर बीएचइएल सहित अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमो को बचाने एवं भेल भोपाल कर्मियो की ज्वलंत समस्याओ के निराकरण के लिए इंटक कार्यालय के बुध्द सभागार में सत्याग्रह किया गया…

हेम्टू इंटक यूनियन ,द्वारा आज 9 अगस्त को भारत छोड़ो आन्दोलन के दिवस के अवसर पर संयुक्त ट्रेड यूनियन के आह्वान पर बीएचइएल सहित अन्य सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमो को बचाने एवं भेल भोपाल कर्मियो की ज्वलंत समस्याओ के निराकरण के लिए इंटक कार्यालय के बुध्द सभागार में सत्याग्रह किया गया।
सत्याग्रह में हेम्टू इंटक के अध्यक्ष आर डी त्रिपाठी ने कहा की समस्त भेल कर्मियो को एकजुट कर बीएचईएल बचाओ आन्दोलन पूरी ताकत और शक्ति के साथ किया जायेगा ।
सत्याग्रह के अवसर पर त्रिपाठी जी ने यह कहा की भारत सरकार के तत्कालीन अध्यादेश से भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स पर आर्थिक हमला किया गया है l

बीएचईएल के समस्त आर्थिक अधिकार एवं वित्तीय सुविधाएँ वित्त मंत्रालय के आधीन समाहित कर दी गई हैं।बीएचईएल के उच्च प्रबंधन को इस सम्बन्ध में सम्पूर्ण जानकारी देनी चाहिए थी।

भारत सरकार के तत्कालीन अध्यादेश से भेल सहित अन्य भारी उद्योग के कारखानों की कार्यपद्धति वित्त मंत्रालय में मर्ज हो गयी है जिसके दुष्परिणाम अब दिखने लगे है।भेल भोपाल के कर्मियो की शिक्षा, स्वास्थ, कैंटीन सभी प्रकार की सब्सिडी बंद की जा रही है। बीएचईएल के उच्च प्रबंधन को शिक्षा, स्वास्थ्य, भोजन एवं टाउनशिप के रखरखाव में भेल के प्रत्येक यूनिट मुख्यरूप से त्रिचनापल्ली, हैदराबाद, हरिद्वार एवं भोपाल में होने वाले व्यय में एकरूपता लाया जाना चाहिए।भेल भोपाल के कस्तूरबा अस्पताल में बीएचइएल का वित्त मंत्रालय में मर्ज होने के बाद भारी अनियमितताएं हो रही है।आज कस्तूरबा अस्पताल में सस्ती दवाइयो का भी आभाव हो गया है।

फाइनेंस विभाग अकर्मण्य सा हो गया है।सत्याग्रह के माध्यम से कहा गया की कस्तूरबा अस्पताल की व्यस्थाओ को तुरंत ठीक किया जाये।त्रिपाठी जी ने कहा की भेल कर्मियो की ज्वलंत समस्याओ का शीघ्र निराकरण किया जाये।मुख्य रूप से हरिद्वार पैर्टन पर बीएचईएल की जमीन में उद्योग लगाये जाये और कर्मचारियों के मकान के लिये जगह आवंटित की जाये इंटक इस उदेश्य को पूरा कराने के लिए पूर्णतयः प्रतिबद्ध एवं कटिबन्ध है। इन्सेन्टिव स्कीम का शीघ्र भुगतान प्रारम्भ किया जायें। एक करोड़ रूपये का टर्म इन्श्योरेन्स पॉलिसी को शीघ्र अमल में लाया जाय ।एसआईपी एवं पीपी बोनस का भुगतान किया जाये। भेल टाउनशिप का नवीनीकरण किया जाये।सत्याग्रह में इंटक के अध्यक्ष आर डी त्रिपाठी ने कहा की भेल को बचाने के लिए अगर जरुरत पड़ी तो भेल के फाउंड्री गेट से राज्यपाल भवन तक मार्च किया जायेगा।इस अवसर पर इंटक के वरिस्ट उपाध्यक्ष गौतम मोरे प्रदेश इंटक के महामंत्री रामराज तिवारी , कोषाध्यक्ष राजेश शुक्ला ,युथ इंटक प्रदेश अध्यक्ष मिथिलेश तिवारी, रामलिंगम, बाबू सिंह, मीडिया प्रभारी सी आर नामदेव, उपाध्यक्ष सुनील महाले, फजल खान, इकबाल खान, टी आर बाटक्या, संतोष सिंह, तपन सरकार, शिवलाल पटेल, प्रदीप मालवीय, रणजीत चंद्रावत, सतेंद्र शर्मा,सुशील सपकाल, सुरेश मेहरा ,बुधमान सिन्हा मदन मोहन पाण्डेय, तरुनेंद्र तिवारी ,राजदीप रामलाल मेहरा सचिन सामरिया,बृजनंदन सिंह आदि सैकड़ो कर्मचारी मौजूद थे।

एडिटर भोपाल

Leave a Reply