लघु वनोपज संग्रहण के लिए 6 जिलों के लिए बना एक्शन प्लान




वन मंत्री डॉ. कुंवर विजय शाह ने बताया कि प्रदेश में ‘एक जिला-एक उत्पाद’ योजना में लघु वनोपज संग्रहण के लिए 6 जिलों के लिए एक्शन प्लान बनाया गया है। इसमें अलीराजपुर, सिंगरौली, उमरिया, बैतूल, मण्डला और अनूपपुर जिले शामिल हैं।

वन मंत्री डॉ. शाह ने बताया कि अलीराजपुर में महुआ फूल और सफेद मूसली की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध होने से विशेष प्रयास कर विपणन और प्र-संस्करण के लिए 2 वन धन केन्द्र में मशीन स्थापित की जायेंगी। सिंगरौली जिले में महुआ फूल के प्र-संस्करण में 7 वन धन केन्द्रों का उपयोग किया जायेगा। उमरिया जिला में महुआ फूलों के प्र-संस्करण एवं विपणन के लिए स्थापित 6 वन धन केन्द्र के जरिए महुआ लड्डू, बिस्किट और केक बनाने के साथ महुआ बीज से तेल निकालने की योजना तैयार की गई है। स्थानीय वृक्षारोपण योजना में 6 स्थानों पर महुआ के पौधों का रोपण भी कराया गया है।

वन मंत्री डॉ. शाह ने बताया कि बैतूल जिले में महुआ फूल और अचार गुठली के प्र-संस्करण एवं विपणन के लिए वन धन विकास केन्द्र स्थापित किए जा रहे हैं। इसी तरह किसानों को भी निजी भूमि पर औषधीय पौधों की खेती के लिए प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से प्रशिक्षित कराया जाएगा। इन केन्द्रों पर तैयार उत्पाद स्थानीय बाजार, ट्राइफेड और संजीवनी केन्द्रों के माध्यम से विक्रय कराया जाएगा।

वन मंत्री डॉ. शाह ने बताया कि मण्डला जिले में आंवला, अर्जुन छाल, शहद और महुआ के प्र-संस्करण की योजना तैयार की गई है। अनूपपुर जिले में गुलबकावली के संरक्षण एवं उत्पादन के लिए एक्शन प्लान के तहत पौधा-रोपण सहित विशेष प्रयास किये जायेंगे। इससे स्थानीय ग्रामीणों की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हो सकेगी।

Leave a Reply