बच्चा चोर समझ व्यापारी और नौकर को बंधक बनाकर घंटो पीटती रही पब्लिक

बी.ऐल शाक्य, ब्यूरो चीफ

कोलारस। कोलारस अनुविभाग के देहरदा-ईसागढ रोड से कल दोपहर एक खबर वायरल हुई कि 1 बाईक पर 2 सवारो ने स्कूली छात्राओ का अपहरण करने का प्रयास किया। अपहरण कर्ताओ को भीड ने धर लिया और जमकर कूटा,लेकिन पुलिस की जांच में मामला अपहरण नही मदद का निकाला। सोशल पर वायरल इस गलत खबर ने दिन भर जिले की मीडिया और पुलिस को परेशान किया।

जानकारी के मुताबिक पचावली गांव से कक्षा 10वीं की दो छात्राओं के साथ कक्षा 9वी की छात्रा परीक्षा देने पचावली आ रही थी। रन्नौद मोड़ डंगोरा तिराहे पर अचानक कक्षा 9वीं की छात्रा गिर पड़ी। कदवाया निवासी हर्ष जैन अपने नौकर अनिल कुशवाह के साथ बाइक से जा रहे थे, यह देख छात्रा की मदद के लिए वह रुक गए।
छात्रा का हाथ पकड़कर उठाते हुए कुछ दूरी पर आ रहीं साथी छात्राओं ने देखा तो समझा कि उसे बाइक पर बिठाकर ले जाने की कोशिश कर रहे हैं। साइकिल से गिरी छात्रा भी कुछ नहीं समझ पाई।
एक अन्य युवक भी चिल्लाता हुआ आया। यह देखकर हर्ष जैन व अनिल घबरा गए और बाइक से पचावली तरफ आ गए। सिंध नदी पुल के ऊपर बह रही थी। लोगों ने पीछा किया तो संगेश्वर की तरफ बाइक दौड़ा दी। लेकिन यहां भी नाला पुलिया के ऊपर बह रहा था। भागने से ग्रामीणों को दोनों पर शक पक्का हो गया और पकड़कर मारपीट शुरू कर दी

छात्रा के पिता बोले- साइकिल से गिर गई थी बेटी

इंदार थाना प्रभारी पूरन शर्मा ने बताया कि पिता के साथ छात्रा को बुलवाया। पिता ने बताया कि साइकिल से गिर जाने की वजह से बाइक सवार युवक उसे हाथ पकड़कर उठा रहे थे। उसे जबरन उठाकर ले जाने की कोशिश नहीं की। पुलिस ने मामले में किसी पर कार्रवाई नहीं की है। हालांकि हर्ष जैन का कहना है कि मारपीट के दौरान किसी ने पांच हजार रुपए जेब से निकला लिए हैं।

स्कूल लाकर हाथ-पैर बांधे और पुलिस के आने तक पीटते रहे

किराना व्यवसायी हर्ष जैन व अनिल को पकड़कर पचावली स्कूल ले आए। यहां लोगों ने हाथ पैर बांध दिए और पुलिस को सूचना दे दी। इंदार पुलिस के आने तक लोगों ने खूब मारपीट की। बाद में पुलिस ने पूछताछ की तो हर्ष ने बताया कि वे जरूरी काम से आए थे। छात्रा को गिरते देख मदद के लिए गए। लेकिन लोगों ने गलत समझ लिया और मारपीट के डर से बाइक से भाग आए।

Leave a Reply