राजभवन भोपाल और मनुवादी सरकार कर रही है मूलनिवासी विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा से वंचित रखने की साजिश

👍 भारतीय विद्यार्थी मोर्चा करेगा 23 सितंबर 2019 दिन सोमवार को प्रदेश स्तरीय आंदोलन👍

👍मध्य प्रदेश के सभी जिलों मे राज्यपाल के नाम जिला कलेक्टर को दिया जायेगा ज्ञापन👍

💐महू मे स्थित डॉ बाबा साहब अंबेडकर समाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय मे लगातार ph.d कर रहे विद्यार्थी दो दिन से धरने पर बैठे हैं विद्यार्थियों ने अपनी मांग को लेकर राज्यपाल के नाम खून से पत्र लिख कर आत्मदाह करने की दी चेतावनी उसके बाद भी शासन और प्रशासन के कान पर जूं तक नहीं रेंगी जिससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि शासन और प्रशासन कितना लापरवाह है ,और घोर अत्याचारी है l.
💐 डॉ अंबेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय में चार साल पहले विद्यार्थियों ने पीएचडी में प्रवेश लिया था किंतु आज तक विद्यार्थियों को कोई गाइड उपलब्ध नहीं कराई गई है और अब चार साल बाद विश्वविद्यालय में गाइड्स की कमी बताकर विद्यार्थियों को अन्य विश्वविद्यालय में स्थानांतरण का आदेश दिया गया है, जहां उनका विषय ही बदल दिया गए है जिसकी वजह से विद्यार्थियों को दोबारा चार साल की पीएचडी दूसरे विषय से करनी होगी💐इन छात्रों मॆ 98% बहुजन समाज के है.भारतीय विद्यार्थी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राजेश मालवीय के नेत्रत्व मॆ तत्कालीन राज्यपाल आनन्दी बेन पटेल से मुलाकत की थी उन्होने निराकरण का आश्वासन दिया था लेकिन कुछ भी नहीं हुआ.अब BVM के राष्ट्रीय प्रभारी मा.प्रेम कुमार गेडाम के निर्देश पर अब प्रदेश व्यापी आन्दोलन किया जायेंगा.
💐 इस तरह का षड्यंत्र कर मूलनिवासी विद्यार्थियों को डॉक्टर इंजीनियर प्रोफेसर बनने से रोका जा रहा है और संविधान मे दिए गये शिक्षा के अधिकार से मूलनिवासी विद्यार्थीयौ को वंचित किया जा रहा है 💐

💐शोधार्थियों की मुख्य मांग है
1.पीएचड़ी गाइड यही दिए जाएं
2.RDC एक सप्ताह के भीतर करवाई जाए
3.शोध केंद्र डॉ बाबा साहेब अंबेडकर सामाजिक विज्ञान विश्विद्यालय को ही बनाया जाएं।
4.फेलोशिप की फ़ाइल पर हस्ताक्षर लगातार किये जायें ।
5.पीएचड़ी करवाने के लिए योग्य 10 प्रोफेसरों को प्रतिनियुक्ति पर विश्विद्यालय में लाया जाए
6.कुलपति के द्वारा तानासाही होस्टल खाली करने वाले आदेश तुरंत वापिस लिए जाए ।

🙏निवेदक- राजेश मालवीय प्रदेश अध्यक्ष भारतीय विद्यार्थी मोर्चा मध्यप्रदेश🙏

Leave a Reply