राजगढ़ में कृषि कानून के विरोध सड़कों पर ट्रैक्टर लेकर उतरे किसान, कहा कानून वापस नहीं हुआ तो 24 को दिल्ली में जाकर करेंगे आंदोलन

DG NEWS RAJGARH

राजगढ़ से कल्पना कीर की रिपोर्ट

राजगढ़ । केंद्र सरकार द्वाराा लागू किए गए नए कृषि कानून के विरोध में सोमवार का जिला मुख्यालय पर भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता ट्रैक्टर लेकर सड़कों पर उतर गए। उन्होंने हर हाल में कृषि कानून वापस लेने की मांग की। मंगल भवन से लेकर विरोध स्वरूप कलेक्ट्रेट तक रैली निकाली गई। कहा गया कि कानून वापस नहीं लिया तो 24 को जिले केे किसान दिल्ली कूच करेंगे ओर कानून वापस नहीं होने तक वापस नहीं आएंगे। राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन कलेक्टर को सौंपा गया।

विरोध प्रदर्शन करने वालों ने कहा कि तीनों कृषि कानून हम किसानों के हित में नहीं है। इस कानून का हम किसान यूनियन के लोग विरोध करते हैं। कहा कि यदि किसानों के विरोध में लागू किए जाने वाले कानूनों को वापस नहीं किया गया तो 24 जनवरी को पूरे जिले के किसान दिल्ली के लिए कूच करेंगे। जब तक कानून वापस नहीं होगा तब तक आंदोलन जारी रहेगा ओर घर वापस नहीं आएंगे। कहा गया कि अभी तो हमारे द्वारा यह शुरूआात की गई है, जिसकी गूंज आने वाले समय में भी सुनाई देगी। हमारा प्रदर्शन इसी तरह से अब लगातार जारी रहेगा। हमारे द्वारा केवल 24 जनवरी तक प्रतिक्षा की जा रही है। इसके बाद हम सैंकऋड़ों की संख्या में किसानों के साथ दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे। इसके लिए अभी समय है कि सरकार संभल जाए ओर समय के पहले इस कानून को किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए रद्ध कर दें। इसके रद करने से लाखों किसान लाभांवित होंगे। इसलिए सरकार को किसानों का ध्यान रखना चाहिए।

कहा गया कि सरकार द्वारा लागू किए गए नए कृषि कानून को किसानों की राय के मुताबिक तय किया जाए। न्यूनतम समर्थन मूल्य कानून लागू किया जाए। दिल्ल आंदोन में जो भी किसान शहीद हुए हैं उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी व उचित मुआवजा प्रदान किया जाए। उक्त मांगों को लेकर कलेक्टर नीरज कुमारसिंह को ज्ञापन सौंपा गया।

जिनका कर्ज माफ हुआ उनसे वशूल रहे ब्याज

एक ज्ञापन मुख्यमंत्री को संबोधित भी सौंपा गया। जिसमें कहा गया किि जिन किसानों की कर्जमाफी शेष है उनकी कर्जमाफी पूरी की जाए। जिन किसानों का कर्जमाफ हुआ है उनसे ब्याज की वसूली की जा रही है। जिसे तत्काल बंद किया जाए। खरीफ फसल 2018 कीी 500 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से भावंतर राशि प्रदान की जाए। रबि 2019 का गेहूं का 165 रुपये प्रति क्विंटल बोनस प्रदान किया जाए। खरीफ 19 सोयाबीन बीमा क्लेम राशि से कई किसान वंचित हैं उन्हें राशि प्रदान की जाए।

Leave a Reply