रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने रेलवे सुरक्षा बल के मेधावी, विशिष्ट और वीर जवानों को सम्मानित किया

रेलवे सुरक्षा को “सबका प्रयास” के माध्यम से मजबूत किया जाएगा: आरपीएफ के अलंकरण समारोह में श्री अश्विनी वैष्णव

विज्ञान भवन में 27 मई 2022 को एक भव्य अलंकरण समारोह आयोजित किया गया। रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने मुख्य अतिथि के रूप में समारोह की अध्यक्षता की और वर्ष 2019, 2020 और 2021 के लिए भारत के माननीय राष्ट्रपति द्वारा वीरता के लिए राष्ट्रपति पदक, सराहनीय सेवा के लिए पुलिस पदक, विशिष्ट सेवा के लिए राष्ट्रपति पुलिस पदक और जीवन रक्षा पदक श्रृंखला से सम्मानित 104 आरपीएफ कर्मियों का सम्मान किया। समारोह में कई विशिष्ट अतिथि भी उपस्थित थे जिसमें श्री वी के त्रिपाठी, अध्यक्ष और सीईओ, रेलवे बोर्ड, श्री. राजिंदर खन्ना, उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, भारत सरकार और श्री राकेश अस्थाना, पुलिस आयुक्त, दिल्ली शामिल थे।

समारोह में एक मार्मिक क्षण भी आया जब स्वर्गीय श्री जगबीर सिंह की पत्नी श्रीमती सुनीता देवी माननीय मंत्री से सम्मान प्राप्त करने के लिए मंच तक गईं। उनके पति स्वर्गीय श्री जगबीर सिंह ने आदर्शनगर-आजादपुर रेल खंड, दिल्ली के बीच रेलवे ट्रैक पर 4 बच्चों की अनमोल जान बचाते हुए ड्यूटी पर अपने प्राणों की आहुति दे दी। बेजोड़ वीरता का परिचय देते हुए, उन्होंने अपने कर्तव्य से भी आगे बढ़कर अपनी जान की परवाह किए बिना इन बच्चों की जान बचाई। उनके बलिदान के लिए उन्हें मरणोपरांत वीरता का राष्ट्रपति पुलिस पदक और जीवन रक्षा पदक से सम्मानित किया गया है।

अपने उद्घाटन भाषण में, डीजी/आरपीएफ ने रेलवे की संपत्ति की रक्षा करने वाले बल से आरपीएफ को सहानुभूति और करुणा के साथ यात्रियों की सेवा करने वाली इकाई में बदलने के बारे में संक्षेप में बताया। उन्होंने आरपीएफ की विभिन्न उपलब्धियों और यात्री सुरक्षा और सहायता, बच्चों को बचाने, मानव तस्करी, प्रौद्योगिकी के उपयोग, सामुदायिक पहुंच के क्षेत्र में की जा रही पहलों को रेखांकित किया। उन्होंने “सेवा ही संकल्प” के उद्देश्य से व्यक्त बल के सेवा लक्ष्य को उचित रूप से समझाया। उन्होंने जनता से रेल यात्रा करते समय जागरूक रहने और सावधानी बरतने का आह्वान किया और उनसे आरपीएफ से संपर्क करने का अनुरोध किया जिससे आरपीएफ उनकी मदद कर सके।

समारोह के दौरान माननीय मंत्री ने आरपीएफ जर्नल, आरपीएफ प्रशिक्षण नियमावली और आरपीएफ ड्रिल मैनुअल का विमोचन किया। सीसीटीवी सिस्टम के माध्यम से देश भर में निगरानी, ​​विश्लेषण और पर्यवेक्षण के लिए सेंट्रल कमांड एंड कंट्रोल सेंटर , जो डीजी/आरपीएफ के नियंत्रण और पर्यवेक्षण के तहत केंद्रीय रूप से कार्य करेगी, की आधारशिला माननीय मंत्री द्वारा रखी गई । छवि सुधारने और सॉफ्ट स्किल्स को विकसित करने के संबंध में माननीय प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण के अनुरूप सीआरआईएस द्वारा विकसित एक समर्पित आरपीएफ वेबसाइट का उद्घाटन किया गया। मेरी सहेली अकेले यात्रा करने वाली महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए आरपीएफ की एक पहल है। मेरी सहेली मॉड्यूल सीआरआईएस के सहयोग से विकसित है और जिसका माननीय मंत्री द्वारा उद्घाटन किया गया, क्षेत्र में बेहतर समन्वय और निगरानी के लिए मेरी सहेली टीमों की सहायता करेगा। आरपीएफ द्वारा किए जा रहे कार्यों को प्रदर्शित करने के साथ-साथ जनता में जागरूकता पैदा करने के लिए एक समर्पित यूट्यूब चैनल का उद्घाटन किया गया। माननीय मंत्री द्वारा विशेष रूप से डिजाइन की गई बैटल फटिग ड्रेस एक अतिरिक्त वर्दी, दृश्यता बढ़ाने, बल की प्रभावशीलता और बल कर्मियों के बीच विश्वास की भावना पैदा करने के लिए लॉन्च की गई। आरपीएफ एक महान संगठन है और अपने गौरवशाली इतिहास को प्रदर्शित करने और साथी कर्मियों के बीच भाईचारे की भावना पैदा करने के लिए आरपीएफ को माननीय मंत्री द्वारा एक थीम गीत, आरपीएफ अमृत गीत,  समर्पित किया गया। थीम सॉन्ग श्री आश करण अटल द्वारा लिखा गया  और नितिन शंकर द्वारा संगीतबद्ध किया गया और प्रसिद्ध बॉलीवुड गायक श्री जावेद अली द्वारा जोश के साथ प्रस्तुत किया गया।

इस अवसर पर अपने संबोधन में रेल मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव ने सभी गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया और वीरता पदक, जीवन रक्षा पदक, पीपीएम और आईपीएम सम्मान पाने वालों की सराहना की। माननीय एमआर ने राष्ट्र के परिवर्तन का आधार रेलवे के परिवर्तन के लिए माननीय प्रधान मंत्री की महत्वाकांक्षा को साझा किया।

उन्होंने रेलवे के परिवर्तन के लिए पांच बुनियादी तत्वों जैसे अंत्योदय, प्रौद्योगिकी का समावेश, निवेश, संगठनात्मक पुनर्गठन और क्षेत्रीय इकाइयों के सशक्तिकरण पर प्रकाश डाला।

माननीय मंत्री ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि 5 तत्वों के इस ढांचे में आरपीएफ की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि आरपीएफ की जनता के साथ अपने जुड़ाव के कारण विशिष्ट स्थिति है। माननीय मंत्री ने यह भी संकेत दिया कि “सबका प्रयास” के माध्यम से रेलवे सुरक्षा को मजबूत किया जाएगा।”

माननीय मंत्री ने संकेत दिया कि निर्धारित पूंजी निवेश के प्रावधान से आरपीएफ में एक बेहद अहम परिवर्तन आएगा। प्रोजेक्ट की योजना में सुरक्षा की योजना को अभिन्न अंग बनाया जाएगा। गति शक्ति निदेशालय में आरपीएफ अधिकारियों का भी प्रतिनिधित्व होगा। माननीय मंत्री ने जगाधरी, हरियाणा में आरपीएफ कमांडो (कोरस) प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करने के लिए 30 करोड़ रुपये की मंजूरी की भी घोषणा की।

 

na.

 

 

Leave a Reply