पेड़-पौधे और प्रकृति के बीच है अद्भुत संगीत

प्रख्यात गायिका रोनिता डे ने बच्चों को सिखाई संगीत की बारीकियां

Trees and nature are the basis of music

रीवा. भारतीय संस्कृति एवं शास्त्रीय संगीत की समृद्ध विरासत से परिचित कराने के लिए स्पिक मैके के तत्वावधान में रीवा के विभिन्न विद्यालयों में शास्त्रीय गायन की कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। इसमें पश्चिम बंगाल के महानगर कलकत्ता से आयी सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका रोनिता डे छात्र -छात्राओं को शास्त्रीय गायन के आधार से अवगत करा रही हैं।

रोनिता कहती हैं कि पेड़, पौधे और ये समग्र प्रकृति ही संगीत की प्रथम सीढ़ी है। रोनिता डे द्वारा युवाओं को गायन विधा में सुबह, दोपहर, शाम एवं रात्रि में गाये जाने वाले रागों के बारे में जानकारी देते हुए ख्याल गायकी, तराना एवं भजनों के माध्यम से जानकारियां प्रदान की जा रही है। उनके साथ रीवा के संगीत कलाकार संगत कर रहे हैं, जिनमें राजकुमार तिवारी एवं प्रिया तिवारी शामिल हैं।

जिला इकाई के संयोजन डॉ मुकेश येंगल ने बताया कि कलकत्ता की शास्त्रीय गायिका रोनिता डे द्वारा अभी ज्ञानोदय संभागीय आवासीय विद्यालय, सरस्वती विद्यालय, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान डाइट, शासकीय कन्या हाई स्कूल नगर निगम , केन्द्रीय विद्यालय क्रमांक-1 तथा मार्तण्ड स्कूल क्रमांक-3 के छात्र-छात्राओं को शास्त्रीय गायन की बारिकियों से अवगत कराया है।

Leave a Reply