प्रभारी मंत्री के बर्ताव को लेकर नाराज हुए मीडियाकर्मियों से आज भाजपा जिला अध्यक्ष और विधायक ने खेद प्रकट किया

नीमच बीते कल शाम को प्रभारी मंत्री सुश्री उषा ठाकुर जिला कलेक्टर कार्यालय में जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों की बैठक ले रहीं थी इस दौरान कोरोना काल में जिला चिकित्सालय द्वारा की गई व्यवस्था के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए मनासा विधायक माधव मारू ने जमकर खरी-खोटी सुनाई तब माधव मारू, नीमच विधायक दिलीप सिंह परिहार और जावद विधायक ओमप्रकाश सकलेचा के बीच भी बहस हो गई । दरअसल माधव मारू का कहना था कि जिला चिकित्सालय प्रबंधन को समान रूप से नीमच मनासा और जावद की चिकित्सा व्यवस्था पर ध्यान देना चाहिए जबकि जिला चिकित्सालय प्रबंधन ने केवल नीमच में ध्यान दिया करोना काल में मनासा विधानसभा क्षेत्र की चिकित्सा व्यवस्था पर ध्यान नहीं दिया गया । इस संदर्भ में नीमच विधायक दिलीप सिंह परिहार ने कहा कि ऐसा नहीं है तीनों ही विधानसभा पर ध्यान दिया गया, तात्कालिक रूप से कोविड प्रभारी रहे ओमप्रकाश सकलेचा भी माधव मारू के तर्क से असहमत होते हुए समान और अच्छी चिकित्सा व्यवस्था का पक्ष लेते रहे । तीनों विधायकों की बहस बाजी को मीडिया कर्मियों ने अपने कैमरे में कैद कर लिया इसी दौरान प्रभारी मंत्री की नजर मीडिया कर्मियों पर पड़ी तो उन्होंने जिला प्रशासन के अधिकारियों से कहकर मीडिया कर्मियों को कवरेज रोकने और बाहर जाने के लिए कहा । प्रशासनिक अधिकारियों के अनुरोध पर मीडिया कर्मी बाहर आ गए लेकिन इस घटनाक्रम से बीते कल से ही जिला प्रेस क्लब के सभी पत्रकारों में काफी आक्रोश था और आगामी समय में बाय काट करने की योजना बनाई जा रही थी इसी दौरान जिला प्रेस क्लब का प्रतिनिधिमंडल आज भाजपा जिला अध्यक्ष पवन पाटीदार और विधायक दिलीप सिंह परिहार से मिला । पत्रकारो ने बैठक के दौरान हुए बर्ताव को लेकर नाराजगी जाहिर की, तब भाजपा जिलाध्यक्ष पवन पाटीदार एवं विधायक दिलीपसिंह परिहार ने मामले में खेद जताया है। दरसल आज नीमच जिला प्रेस क्लब अध्यक्ष विष्णु परिहार के साथ प्रतिनिधिमंडल ने दोनो जिम्मेदारों से मुलाकात कर घटना से अवगत कराया और ऐसी घटना भविष्य में न हो इसके लिये व्यवस्था तय करने की बात कही।
विधायक दिलिपसिंह परिहार ने कहा कि प्रभारी मंत्री की उपस्थिति में या प्रशासन से सम्बंधित यदि कोई बैठक है, तो उसके बारे में स्थिति पहले ही स्थिति स्पष्ट कर दी जायेगी, ऐसी व्यवस्था कलेक्टर से चर्चा कर निर्धारित करवाएंगे। मिडिया को पहले से बिना कोई जानकारी दिये बीच में बैठक से जाने का कहना उचित नहीं है। अगली बार बैठकों में मिडिया को परेशानी नही होने देंगे। भाजपा जिला अध्यक्ष पवन पाटीदार ने इस मुद्दे पर मिडिया से सबकी ओर से क्षमा भी मांगी। उन्होने कहा कि मिडिया की आज के समय में महत्वपूर्ण भूमिका है। पत्रकारों की नाराजगी वाजिब है। हम उनसे प्रचार की उम्मीद करते हैं तो उनके आत्मसम्मान का भी हमें ध्यान रखना चाहिए। जो कुछ भी हुआ वह ठीक नहीं था, मैने तत्काल ही इस मुद्दे पर जनप्रतिनिधियों से चर्चा कर ऐसी स्थिति भविष्य में न बने इसकी चर्चा कर ली है। दूसरी और कलेक्टर से भी उसी दौरान फोन पर चर्चा कर आगामी बैठकों या कार्यक्रमों के लिये विशेष रूप से मिडिया के लिये व्यवस्था निर्धारित करने को कहा है। संगठन की गतिविधियों में भी हम इसका विशेष ध्यान रखेंगे। हमारी कोर कमेटी की बैठक में खासतौर से इस मुद्दे को रखा जाएगा, जनप्रतिनिधियों को भी बताया जाएगा ताकि भविष्य में ऐसी स्थिति न बने। दूसरी तरफ इस मामले पर प्रेस क्लब अध्यक्ष परिहार ने कलेक्टर मयंक अग्रवाल से फोन पर चर्चा कर पत्रकारों के साथ बैठक में हुई हरकत पर बात की। कलेक्टर मनासा क्षेत्र के दौरे पर थे। उन्होने आश्वस्त किया कि कलेक्टोरेट में किसी भी प्रकार की बैठक अब होगी तो पत्रकारों को पहले अवगत करा दिया जाएगा ताकि किसी को परेशानी नहीं हो।
पत्रकारों के प्रतिनिधिमंडल में जिला प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष हरीश अहीर, पूर्व अध्यक्ष कपिलसिंह चौहान, पूर्व अध्यक्ष श्याम गुर्जर, प्रेस क्लब सचिव भारत सिंह सोलंकी, घटनाक्रम के दौरान मौजूद रहे मिडियाकर्मी विकास राव शिन्दे, महेंद्र उपाध्याय, पंकज मेनारिया, संदीप शर्मा, चिराग फगवार, प्रथमसिंह आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply