पत्रकारिता की आड़ में करोड़पति बनने का देख रहा है सपना फर्जी वसीयत बनाकर करोडों की जमीन हडपने का मामला सामने आया

पत्रकार विवेक सोनी और प्रापर्टी दलाल पंकज सोनी मिलकर स्वर्गीय ओझा की जमीन हडपने का कर रहे है प्रयास, स्वर्गीय ओझा के बेटे पियूष ओझा ने नीमच सिटी थाने में आवेदन देकर दलाल, फर्जी वसीयत् तैयार करने वाले पर कार्यवाही की मांग की
नीमच। मनासा के वरिष्ठ पत्रकार रमेशचंद्र ओझा के निधन के कुछ माह बाद ही उनकी संपत्ति हडपने का मामला सामने आया है। स्वर्गीय ओझा के बेटे पियुष ओझा ने इस संबंध में नीमच सिटी थाने में आवेदन देकर दलाल, फर्जी वसीयत् तैयार करने वाले पर कार्यवाही की मांग की है। दलाल पंकज सोनी और विवेक सोनी ने मिलकर एक रिश्तेदार के नाम से फर्जी वसीयत बनाई है और अब मनासा मे स्वर्गीय ओझा की करोडों रूपए की जमीन बेचने पर आतुर है। शिकायकर्ता पियुष ओझा को नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्रसिंह के भाई के नाम से भी इस मामले में धमकाया जा रहा है।
नीमच सिटी थाने में शिकायतकर्ता पियुष ओझा ने दिए आवेदन में बताया कि फर्जी दस्तावेजों को स्वीकार करने के लिए दबाव बनाया जा रहा है। भाटखेडी बायपास के पास करीब साढे तीन हेक्टेयर जमीन है। जो स्वर्गीय ओझा के निधन के बाद अनूप, पियुष ओझा और प्रीति व्यास के नाम पर चढ गई है। उपरोक्त जमीन बेचने के लिए दलाल पंकज सोनी और विवेक सोनी प्रयास कर रहे है। मां स्वर्गीय इंदुमति ओझा द्वारा अनूप ओझाा की पत्नी लतिका के नाम से वसीयत किए जाने की बात सामने आई है। जिसमें खेडाशेर गली में स्थित मकान और विवेकानंद कॉलोनी स्थित 30 बाय 50 का मकान शामिल है। जबकि उक्त् वसीयत इंदुमति द्वारा की ही नहीं गई। विवेक सोनी ने फर्जी तरीके से वसीयत बनाई गई है। नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्रसिंह के भाई विवेकसिंह के नाम से पियुष ओझा को धमकाया जा रहा है कि जो पैतृक जमीन का सौदा किया जा रहा है, उसे स्वीकार कर लो। विवेकसिंह जो मंत्रीजी का भाई अपने आप को बता रहा है। उसके द्वारा धमकाने की आॅडियो रिकार्डिंग सुरक्षित है। भाई अनूप ओझा, भाभी लतिका, बहन प्रीति व्यास, जीजा नरेंद्र उर्फ सुनील व्यास निवासी मंदसौर, प्रापर्टी दलाल एवं पत्रकार विवेक सोनी के साथ मिलकर जाली वसीयत व अन्य दस्तावेज तैयार किए है, उपरोक्त व्यक्ति पैतृक संपत्ति को खुर्द—बुर्द कर रहे है।


नगरीय प्रशासन मंत्री के नाम से धमकाया, सभी अधिकारी कहने पर चलते है
पीडित पियुष ओझा ने बताया कि एक व्यक्ति विवेकसिंह बार—बार कॉल कर रहा है और खुद को नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्रसिंह का भाई बता रहा है। वह कह रहा है कि कलेक्टर, एसडीएम, तहसीलदार सभी कहने पर चलते है। फर्जी वसीयत के आधार पर नामांतरण वगैरह सभी काम हो जाएंगे। जिस जमीन का सौदा हो रहा है, उसमें चुपचाप रहो और रजिस्ट्री करवाने के लिए तैयार हो जाओ। इस तरह से जान से खत्म करने की धौंस दी।
सूत्रों से मिली जानकारी

Leave a Reply