आज की युवा पीढ़ी जब आधुनिकता के नाम पर पाश्चात्य संस्कृति को अपना रहे हैं वहीं शैवी खोडे एक ऐसी कलाकार है जो

भोपाल से संतोष योगी की खबर आज की युवा पीढ़ी जब आधुनिकता के नाम पर पाश्चात्य संस्कृति को अपना रहे हैं वहीं शैवी खोडे एक ऐसी कलाकार है जो अपनी कला के माध्यम से अपनी संस्कृति को कत्थक डांस के माध्यम से आगे बड़ा रही हैं । हमारी संस्कृति विश्व की सबसे अच्छी संस्कृति है और उसे संभाल कर रखना हमारी जिम्मेदारी है इससे प्रेरित होकर शैवी ने कत्थक को माध्यम बनाया और आगे बड़ा रही है।

शैवी के 2 वर्ष की उम्र में ही संगीत सुनते ही पैर थिरकने लगते थे उनके मम्मी पापा नेशास्त्रीय नृत्य के बारे में अलग अलग जानकारी हासिल की, अंततः कत्थक के रूप में अपनी साधना शुरू की. तथा 3 वर्ष की उम्र में ही अपनी पहली प्रस्तुति दी।
इन्होंने आज कत्थक में (शास्त्रीय नृत्य में) स्नातक, प्रयाग विश्वविद्यालय इलाहाबाद से पूर्ण किया ।
शैवी ने कई राष्ट्रीय एवम अंतराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया एवम सब को मोहित किया और अनेक पुरस्कार भी जीते है उन्होंने वेदव्यास संगीत नृत्य उत्सव उड़ीसा , भोजपुर महोत्सव,जल महोत्सव , चक्रधर महोत्सव, पंडित कार्तिक राम महोत्सव, ओजस्विनी महोत्सव में प्रस्तुति देकर सभी को अपनी और आकर्षित किया।
शैवी ने बताया कि नृत्य एक साधना भी है नृत्य हमे भरपूर ऊर्जा भी देती है हमे शारीरिक रूप से भी फिट रखता है, मानसिक सुकुन भी देता है और हमेशा हमे ऊर्जावान बनाए रखता है।

शैवी द्वारा नृत्य के अलावा रंगमंच पर भी कई प्रस्तुतिया दी है इसके साथ साथ कई लघु फिल्मे और एड शूट भी किए है।

शैवी द्वारा कार्मल कॉन्वेंट भेल से पढ़ाई के बाद हाल ही में भोपाल स्कूल ऑफ़ सोशल साइंस में बैचलर ऑफ़ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (बी बी ए) प्रथम वर्ष की छात्रा है
इसके अलावा वे राष्ट्रीय सेवा योजना की एक सक्रिय सेवक है और भी कई सामाजिक कार्यों से जुड़ी है।

शैवी अपनी सारी उपलब्धियों का श्रेय अपने पापा संजय खोडे एवम मम्मी पूर्वी खोडे को देती है जिनके सहयोग एवम आशीर्वाद से ही सब संभव है।

शैवी आज के युवासाथियों को संदेश देना चाहती है कि हमे अपनी संस्कृति को अपनाते हुए उसेआगे की पीढ़ी में आगे बड़ाना है और अपनी संस्कृति को विश्व भर में स्थान दिलाना है नृत्य के आलावा सामाजिक कार्यों में भी आगे हों कर काम करनाचाहिए क्यूंकि युवा ही समाज को नई दिशा दिखाते है ।

Leave a Reply