शिवपुरी में हुई मासूम बच्चों की हत्या के विरोध में दलित घेरेंगे कमिश्नर कार्यालय

शिवपुरी जिले के सिरसोद इलाके के भावखेड़ी गांव में कल सवेरे वाल्मीकि समाज के दो मासूम बच्चे अविनाश वाल्मीकि उम्र 10 एवं रोशनी वाल्मीकि उम्र 13 वर्ष कि गांव के दबंगों ने लट्ठों से पीट-पीटकर बेरहमी से हत्या कर दी

बच्चों का गुनाह इतना भर था कि वे केवल खुले में शौच कर रहे थे

अखिल भारतीय बलाई महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज परमार व
प्रदेश अध्यक्ष लता मालवीय
वाल्मीकि समाज के नेता
नितेश नरवले, सुरेंद्र लोट, विशाल नरवले ने बताया कि

मासूम बच्चों की नृशंश हत्या के विरोध में आज समस्त दलित समाज कमिश्नर कार्यालय का घेराव प्रदर्शन करेगा व आरोपियों को फांसी दी जाये
की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा जाएगा

इस घटना से पता चलता है कि आधुनिक भारत में दलितों की क्या स्थिति है ।

दलितों पर आए दिन हो रहे अत्याचारो से केंद्र सरकार व राज्य सरकार दोनों अनभिज्ञ हैं ।

या जानबुझ कर दलित अत्याचार को नजरअंदाज करते हैं ।

इन परिस्थितियों में दलित समुदाय का व्यक्ति अपने आप को असहाय महसूस कर रहा है ।।
न्याय की मांग रहा है ।

यदि आरोपियों को फांसी नहीं दी गई तो अपने अधिकारों के लिए आक्रोशित दलित समाज सड़को पर उतरेगा ।

जिला धार से हमारे प्रतिनिधि लक्ष्मीनारायण पवार ने बताया नवर खेत मे टट्टी कर सकता है दलित इंसान नही? वाह रे मनुवादी सोच?
10 साल की बच्ची से रेप करने कोशिश की उसका भाई साथ मे था तो दोनों को मार दिया । दलित समाज से होने के कारण दो अहीर यादव जाति के लोगो ने वाल्मीकि जाति के बालिका रौशनी 10 साल और बालक अविनाश उम्र 12 दोनो की नृशंस हत्या कर दी।
पॉक्सो एक्ट SC/ST ACT तहत FIR दर्ज कर आरोपियों को पकड़ा जा चुका है। जाटव जाति के लोग दुख की घड़ी में साथ खड़े होकर आरोपियों को पकड़वाया ।
#शिवपुरी-मप्र खेत मे शौच कर लिया तो बच्चो को मार दिया, मोदी पर FIR होना चाहिए,क्योकि अगर घर पर शौचालय बना होता तो यह न होता!

शिवपुरी के भावखेड़ी गांव में दो बच्चों को मौत के घाट उतारा
#शौचालय न होना बन गया मौत का कारण
#शौच करने गए चचेरे भाई-बहनों को लाठियों से मारकर उतारा मौत के घाट
25 सितंबर- मप्र के शिवपुरी ज़िले के पोहरी तहसील के अंतर्गत आने वाले भावखेड़ी ग्राम में दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है।
यहां पर शौच के लिए गए चचेरे भाई-बहन की दो लोगो ने लाठियों से मार-मार कर हत्या कर दी।
जिन बच्चों को मौत के घाट उतारा गया है उनका नाम अविनाश (10) और बच्ची का नाम रोशनी (12) है।
बुधवार की सुबह दोनों अपने घर से शौच के लिए निकले थे। दोनों बच्चों की उम्र 10 से 12 साल की है।
बुधवार की सुबह सिरसौद थाना क्षेत्र के ग्राम भावखेड़ी में दो मासूम बच्चों रौशनी उम्र 12 साल और अविनाश उम्र 10 साल की हत्या के मामले में एक चौकाने वाली बात निकल कर सामने आई है।
प्रारंभिक जांच पड़ताल के बाद जो मामले में खुलासा हुआ है उसके तहत पता चला है कि ये दोनों मृतक बच्चे वाल्मिक समाज से हैं और गांव के रास्ते पर बने पंचायत भवन के पास शौच कर रहे थे।
लेकिन ये बात गांव के दबंगों को बर्दाश्त नहीं हुई। जिन आरोपियों ने इस वारदात को अंजाम दिया है। आरोपियों के नाम हाकिम यादव और रामेश्वर यादव बताए गए हैं।
इस मामले में एक आरोपी को मानसिक रूप से विक्षिप्त बताया जा रहा है लेकिन मृतक बच्चों के परिजनों का कहना है कि आरोपी बचने के लिए ऐसा कर रहा है।

स्थानीय साथी एव भीम आर्मी के साथी लगे है।
शेयर करें।

Leave a Reply