सीहोर जिले में चार दिन से रुक – रुककर हो रही बारिश, रिमझिम फुहारों से खिली फसल

DG NEWS SEHORE

सीहोर से सुरेश मालवीय की रिपोर्ट

सीहीरे । पिछले चार दिनों से जिले में रुक-रुक कर पानी ही फुहार चल रही है। इससे मुरझाई फसलें खिल उठी हैं, वहीं नदी-नालों में पानी भरने से धार निकलने लगी है। अभी तक जिले में 19 इंच बारिश दर्ज की जा चुकी है। चार दिन से हो रही बारिश के बाद अब किसान फसल में दवा का छिड़काव करने मौसम के खुलने का इंतजार कर रहे हैं। क्योंकि अषाढ़ महीने में जिले में बरसात नहीं होने के कारण से खरीफ फसल में तेज धूप व उमस के चलते दवा का छिड़काव नहीं कर पा रहे थे । जिले में सावन महीने की शुरुआत होते ही मौसम में बदलाव हुआ और लगातार बरसात जारी है। इससे जिले में कई स्थानों पर नदी नाले उफान पर हैं। इससे कई ग्रामों में लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है। लगातार रिमझिम बरसात होने के कारण से हालात यह है कि लोगों के मकानों की छतों से पानी टपकने के कारण से तो शहर की निचली बस्तियों में रहने वाले लोगों के घरों सीलन होने के कारण से उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अहमदपुर क्षेक के कुछ गांव का रास्ता भी प्रभावित हुआ है।

जिले में अब तक हुई बरसात

जिले में 1 जून से 27 जुलाई तक 472.8 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई, जो कि गत वर्ष इसी अवधि में औसत वर्षा से 414.8 मिलीमीटर कम है। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। जानकारी के अनुसार 1 जून से 27 जुलाई तक जिले के वर्षामापी केंद्र सीहोर में 455.3 मिलीमीटर, श्यामपुर में 537.0, आष्टा में 465.0, जावर में 439.0, इछावर में 472.0, भैरुंदा में 488.0, बुधनी में 568.0, रेहटी में 358.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले के भैरुंदा और बुधनी क्षेत्र में सबसे अधिक बरसात दर्ज की गई है। जिले में बीते 24 घंटे में सुबह 8 बजे तक 8.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केंद्र सीहोर में 14.2 मिलीमीटर, श्यामपुर में 24.0, आष्टा में 4.0 जावर में 3.0, इछावर में 4.0, भैरुंदा में 0.0, बुधनी में 13.0, रेहटी में 4.6 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जिले में मंगलवार की सुबह से ही रुक-रुक बरसात हो रही है। इस बरसात से फसलों को फायदा हुआ है। दूसरी ओर लगातार बरसात होने के कारण से जिले के भैरुंदा और बुधनी क्षेत्र में धान की रोपाई का कार्य भी तेजी से किसानों द्वारा किया जा रहा है।

Leave a Reply