भारतीय समाज की संस्कृति में है महिलाओं का सम्मान करना: स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा है कि महिलाओं का सम्मान करना भारतीय समाज की संस्कृति का अंग है। मंत्री डॉ. चौधरी आज एन.एच.एम., स्वास्थ्य विभाग और व्हिश (wish) फाउण्डेशन द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर पुरस्कार वितरण और मातृ स्वास्थ्य सेवाओं पर उन्मुखीकरण कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

मंत्री डॉ. चौधरी ने भारतीय समाज की संस्कृति में महिलाओं के सम्मान से जुड़े तथ्यों का उल्लेख करते हुए कहा कि प्राचीन काल से हमारा समाज महिलाओं का सम्मान करने का पक्षधर रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के द्वारा भूमि पजून, शिलान्यास, लोकार्पण आदि अन्य कार्यक्रमों की शुरूआत कन्या-पूजन से की जाती है। सरकार के साथ समाज का प्रत्येक व्यक्ति महिलाओं के सम्मान के लिए कार्य करे। महिलाओं की हर क्षेत्र में भागीदारी सुनिश्चित हो। मंत्री डॉ. चौधरी ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में आशा कार्यकर्ता, ए.एन.एम. सहित मैदानी स्वास्थ्य अमले ने वर्षाकाल के दौरान प्रतिकूल परिस्थितियों में कोविड टीकाकरण में उल्लेखनीय कार्य किया है। अच्छा काम करने पर पुरस्कृत होने से व्यक्ति और अधिक अच्छा कार्य करने के लिये प्रोत्साहित होता है। पुरस्कृत व्यक्ति दूसरों के लिए अच्छा कार्य करने की प्रेरणा बनता है।

अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने कहा कि कोई भी “दिवस” का आयोजन हमें मूल्यांकन करने की याद दिलाता है। महिला दिवस पर मातृ और शिशु स्वास्थ्य के लिए विभाग के कार्यक्रमों के क्रियान्वयन पर विचार करना जरूरी है। उन्होंने महिलाओं के स्वास्थ्य सुधार के लिए संचालित कार्यक्रमों के क्रियान्वयन को पूरी निष्ठा और समर्पण से करने की बात कहीं। आयुक्त स्वास्थ्य डॉ. सुदाम खाड़े और एम.डी. एन.एच.एम. श्रीमती प्रियंका दास ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया।

कार्यक्रम में मातृ स्वास्थ्य सेवाओं, आर.वी.एस.के, शहरी स्वास्थ्य, परिवार कल्याण एवं टीकाकरण में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को पुरस्कृत किया गया। कार्यक्रम में व्हिश फाउण्डेशन के सीईओ सहित स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

Leave a Reply