अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस 2022 समारोह

राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने ‘नारी शक्ति पुरस्कार’ प्रदान किए

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने “नारी शक्ति और विविध क्षेत्रों में उनकी उपलब्धियों को सलाम किया”

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जूबिन इरानी ने कहा, “अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, 2022 (आईडब्ल्यूडी, 2022) को महिलाओं द्वारा किए विकास का उत्सव बनने दें”

आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, 2022 (आईडब्ल्यूडी, 2022) के अवसर पर राष्ट्रपति भवन, नई दिल्ली में आयोजित एक विशेष समारोह में भारत के राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने आज ‘नारी शक्ति पुरस्कार’- 2020 और 2021 प्रदान किए। यह पुरस्कार उपलब्धि हासिल करने वाली 29 उत्कृष्ट और असाधारण महिलाओं को प्रदान किया गया। राष्ट्रपति ने एक ट्वीट में लिखा, “अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की बधाई! महिलाएं जीवन के सभी क्षेत्रों में अनुकरणीय योगदान दे रही हैं। आइए हम उनकी सुरक्षा और गरिमा सुनिश्चित करने और उनमें से प्रत्येक को अपने सपनों और आकांक्षाओं को आगे बढ़ाने के अवसर प्रदान करने के लिए खुद को फिर से प्रतिबद्ध करें।”

Image

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर नारी शक्ति को नमन किया। प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट्स में लिखा, “महिला दिवस पर, मैं अपनी नारी शक्ति और विविध क्षेत्रों में उनकी उपलब्धियों को सलाम करता हूं। भारत सरकार महिलाओं की गरिमा और उनके लिए अवसर पर जोर देते हुए अपनी विभिन्न योजनाओं के माध्यम से महिला सशक्तिकरण पर ध्यान केंद्रित करती रहेगी।” प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि, “वित्तीय समावेशन से लेकर सामाजिक सुरक्षा, गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा से लेकर आवास, शिक्षा से लेकर उद्यमिता तक, हमारी नारी शक्ति को भारत की विकास यात्रा में सबसे आगे रखने के लिए कई प्रयास किए गए हैं। ये प्रयास आने वाले समय में और भी अधिक उत्साह के साथ जारी रहेंगे।”

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी आज शाम 6 बजे वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के माध्यम से कच्छ के धोरडो में महिला संत शिविर में एक संगोष्ठी को भी संबोधित करेंगे। समाज में महिला संतों की भूमिका और महिला सशक्तिकरण में उनके योगदान को मान्यता देने के लिए संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है। धोरडो में आयोजित होने वाली संगोष्ठी में 500 से अधिक महिला संत शामिल होंगी। प्रधानमंत्री ने एक वीडियो भी साझा किया जिसमें बताया गया है कि कैसे ‘मन की बात’ कार्यक्रम ने नारी शक्ति का जश्न मनाया है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कल नई दिल्ली में वर्ष 2020 और 2021 के नारी शक्ति पुरस्कार विजेताओं के साथ एक संवाद सत्र आयोजित किया। यह बातचीत महिलाओं को सशक्त बनाने की दिशा में प्रधानमंत्री द्वारा किए गए निरंतर प्रयासों की एक साक्षी थी। प्रधानमंत्री ने पुरस्कार विजेताओं द्वारा किए गए उनके जबरदस्त काम की प्रशंसा की और कहा कि वे समाज के साथ-साथ देश के लिए भी योगदान दे रही हैं। उन्होंने कहा कि जहां उनके काम में सेवा की भावना है, वहीं उनके काम में जो चीज साफ नजर आती है वह है नवोन्मेष। उन्होंने कहा कि अब ऐसा कोई क्षेत्र नहीं बचा है जहां महिलाओं ने अपनी पहचान नहीं बनाई हो और देश को गौरवान्वित न किया हो।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जूबिन इरानी ने एक संदेश में कहा, “उन सभी महिलाओं को शुभकामनाएं जो हर दिन प्रयास करती हैं और आगे बढ़ती हैं। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, 2022 को महिलाओं के नेतृत्व में हुए विकास का उत्सव होने दें।”

केंद्रीय मंत्री श्रीमती इरानी ने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में कहा, “प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान स्कूल में हर लड़की का नामांकन सुनिश्चित करने के लिए शाला प्रवेश उत्सव शुरू किया था। उनके आशीर्वाद से, आज हम यह सुनिश्चित करने के लिए एक मिशन की शुरुआत कर रहे हैं कि हर युवा लड़की को शिक्षा और कौशल हासिल करने की अनुमति मिले।”

श्रीमती इरानी ने बताया कि बेटी बचाओ बेटी पढाओ के तहत ‘कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव’ शुरू किया गया है। परिवार के सदस्यों को जागरूक करने के लिए विशेष जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि आंगनबाडी कार्यकर्ताओं को भी परामर्श देने और स्कूल न जाने वाली किशोरियों को स्कूल भेजने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय 4 लाख से अधिक लड़कियों को स्कूल वापस लाने के अपने संकल्प को निश्चित रूप से पूरा करेगा।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने ‘कन्या शिक्षा प्रवेश उत्सव अभियान’ को “एक अनुकरणीय प्रयास” बताया है जो यह सुनिश्चित करेगा कि अधिक लड़कियों को शिक्षा का आनंद मिले। उन्होंने आंदोलन को सफल बनाने के लिए प्रयास करने को भी कहा। यह अभियान यह सुनिश्चित करने के लिए एक मिशन है कि प्रत्येक युवा लड़की को शिक्षा और कौशल हासिल करने की अनुमति दी जाए।

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जूबिन इरानी के एक ट्वीट का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा:

“यह एक अनुकरणीय प्रयास है जो सुनिश्चित करेगा कि अधिक लड़कियों को शिक्षा का आनंद मिले! आइए हम सब एक राष्ट्र के रूप में एक साथ आएं और इस आंदोलन को सफल बनाएं।”

Leave a Reply