प्रदेश के 75 प्रमुख स्थानों पर होंगे योग के विशेष सत्र

इनमें से 4 स्थानों पर शामिल होंगे केन्द्रीय मंत्री

आठवें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर प्रदेश के 75 प्रमुख स्थानों पर योग के विशेष सत्र होंगे। इसके लिये पुरातत्व स्थल, नदियों के घाट और प्रसिद्ध पर्यटन स्थल चयनित किये जा चुके हैं। इनमें से चार स्थानों पर केन्द्रीय मंत्री भी शामिल होंगे।

जिन 4 स्थलों पर योग के विशेष सत्रों में केन्द्रीय मंत्री शामिल होंगे, उनमें प्रसिद्ध पुरातत्व स्थल खजुराहो में केन्द्रीय कृषि एवं किसान-कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर, नर्मदा नदी के उद्गम स्थल अमरकंटक में केन्द्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री डॉ. वीरेन्द्र कुमार, ग्वालियर किले के पुरातत्व स्थल पर केन्द्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और विश्व प्रसिद्ध साँची के बौद्ध विहार में केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग राज्य मंत्री श्री भानु प्रताप सिंह वर्मा शामिल होंगे।

योग दिवस की थीम “मानवता के लिये योग

इस वर्ष “मानवता के लिये योग” थीम पर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा। जिन 75 स्थलों पर योग के विशेष सत्र हो रहे हैं, उनमें श्योपुर जिले में महाराजा नरसिंह महल, मुरैना में मंदिर समूह बटेश्वर, भिण्ड में अटेर किला, ग्वालियर में विक्रम महल, जहाँगीर महल और मानमंदिर परिसर ग्वालियर किला, शिवपुरी में पिछोर का किला और गाँधी भवन शिवपुरी, गुना में बजरंगगढ़ का किला, अशोकनगर में बादल महल चंदेरी, दतिया में महाराजा परीक्षित की छत्री, सागर में सागर पुलिस एकेडमी, प्राचीन किला खुरई और प्राचीन किला मालथौन, दमोह में दमयंतीगढ़ी, रंगमहल पैलेस हटा और नोहटा मंदिर, पन्ना जिले में छत्रसाल पार्क, छतरपुर में खजुराहो कंदरिया मंदिर प्रांगण, टीकमगढ़ में सूर्य मंदिर उमरी और मढ़खेरा, निमाड़ी में जहाँगीर महल ओरछा, छिंदवाड़ा में प्राचीन गोंड किला देवगढ़, रतलाम में बिल्पकेश्वर मंदिर बिल्पांक, शाजापुर में राणोजी शिंदे की छत्री, मंदसौर में यशवंत राव होल्कर प्रथम की छत्री भानपुरा, नीमच में जीरन की गढ़ी, उज्जैन में महाकाल मंदिर परिसर रामघाट और प्राचीन किला महिदपुर में योग के विशेष सत्र होंगे।

इंदौर में कृष्ण बाई होल्कर की छत्री, लाल बाग पैलेस, लेंटर्न चौराहा यशवन्त होल्कर निवास रोड, धार जिले में दुर्ग धार, जहाज महल परिसर मांडू, अलीराजपुर जिले में शिव मंदिर मलवई, खरगोन के महेश्वर घाट (नर्मदा तट), बड़वानी में किला सेंधवा, खण्डवा में गौरी सोमनाथ मंदिर और सिद्धनाथ मंदिर, बुरहानपुर में प्राचीन किला, देवास में सिद्धेश्वर मंदिर नेमावर नर्मदा तट, झाबुआ में प्राचीन शिव मंदिर देवफलिया, भोपाल में रानी कमलापति महल, रायसेन में बौद्ध स्तूप साँची, शिव मंदिर भोजपुर, सीहोर जिले में प्राचीन देवी मंदिर सलकनपुर, होशंगाबाद जिले में सेठानी घाट नर्मदा तट, बाईसन लॉज पचमढ़ी और तिलक सेंदूर मंदिर खतामा इटारसी, राजगढ़ जिले में सांकाजी की छत्री, हरदा में तेली की सराय हंडिया और प्राचीन गुप्तेश्वर मंदिर चारूवा, विदिशा जिले में उदेश्वर शिव मंदिर उदयपुर, नरसिंहपुर जिले में नरसिंह मंदिर, शांति स्मारक पुस्तकालय, सिवनी जिले में आदेगाँव का किला, मण्डला में मोती महल परिसर रामनगर और प्राचीन गोंड किला, डिण्डोरी में प्राचीन किला रामगढ़, बालाघाट जिले में प्राचीन बावड़ी हट्टा, प्राचीन किला लांजी और बजरंग घाट/मोती गार्डन में योग के विशेष शिविर होंगे। जबलपुर में भेड़ाघाट नर्मदा तट, मदन महल और चौसठ योगिनी मंदिर, कटनी जिले में विजयराघवगढ़ का किला और प्राचीन शिव मंदिर बिलहेरी, शहडोल जिले में कंकाली मंदिर अंतरा और विराट मंदिर सोहागपुर, उमरिया जिले में सीतामढ़ी पाली, अनूपपुर में अमरकंटक मंदिर प्रांगण, सिंगरोली में शैलोत्कीर्ण गुफाएँ माड़ा, रीवा जिले में हरगौरी प्रतिमा पद्मधर पार्क और प्राचीन गढ़ी गुढ़ और सतना जिले में गोला मठ (प्राचीन शिव मंदिर) मैहर और चित्रकूट घाट में यह विशेष योग शिविर होंगे।

अमृत सरोवर के तट पर भी होंगे विशेष सत्र

आजादी के अमृत महोत्सव के दौरान प्रदेश में निर्मित किये जा रहे अमृत सरोवरों के नजदीक भी योग के विशेष सत्र होंगे। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर योग सत्रों में अधिक से अधिक जनभागीदारी भी सुनिश्चित की जा रही है। सामूहिक योग सत्रों में योग प्रशिक्षक विशेष रूप से मौजूद रहेंगे।

Leave a Reply